शनिवार, 28 सितंबर 2013

मिट्टी

उसे मिट्टी में ही खेलने दो
हाय राम! तेरा लल्ला तो मिट्टी खाता है
इस मिट्टी की खुशबू ही अलग है
पूरा मिट्टी का माधौ है
इस मिट्टी के लिए भी कुछ सोच
मिट्टी को खून से मत रंग
जाने किस मिट्टी का बना है
मिट्टी का असर जाता कहाँ है

अब क्या बचा है केवल मिट्टी
कब तक इंतजार करोगे मिट्टी खराब हो जाएगी
समय से आ जाते तो मिट्टी मिल जाती
देर कर दी आने में, मिट्टी उठ गयी
मिट्टी है जलने में समय तो लगेगा ही
मिट्टी से लौटकर घर मत आना
मिट्टी में कौन कौन शामिल था
चलो मिट्टी सुधर गयी

मिट्टी मिट्टी में मिल गयी !

- आनंद 

शुक्रवार, 27 सितंबर 2013

पाने की इच्छा

सारा दिन
बार बार
स्मृतियों को
उलट पुलट कर देखता हूँ
हर बार पाता हूँ कि
और और उलझ गयी है मेरी शिनाख्त
रात भये
मंझे से कटी पतंग की तरह गिरता हूँ
बिस्तर पर
जहाँ नींद उलझा देती है
पुरानी चरखी से उतरा हुआ सारा धागा

तुम आगे बढ़ गये हो
सारा कुछ उलझा हुआ छोड़कर
अपनी धवल राहों में
मैं तटस्थ हो गया हूँ समय से
और ढूँढ रहा हूँ,
तुमको ..न...न
बस धागे का एक सिरा
इस बार
बिना टूटे
ये शायद सुलझेगा नहीं !

बड़ी सकारात्मकता से भरी है यह दुनिया
पहाड़ों पर कचरा फेंकती है
और नदियों में मैला
हवा में जहर घोलती है
और दिलों में उदासी
अब तो किसी को खुश देखो तो भी डर लगता है
न जाने इस मुस्कान की कीमत
कितने आँसुओं ने चुकाया हो
आख़िर हर क़दम पर यही तो सिखाया जाता है हमें
प्रेम सिर्फ़ मिटने का नाम है
पाने की इच्छा 'पाप' है

हम ठोकर मारते हैं
इस
अच्छा होने की चाहत को
और ठाठ से हैं
अपने बे शिनाख्त वजूद में ही
तुम्हें पाने की इच्छा (बेशक पाप) के साथ !

-आनंद 

बुधवार, 25 सितंबर 2013

आत्महत्या


सल्फ़ास खा लेना
या कलाई की नशें काट लेना
नहीं है आत्महत्या
वो तो है ...
केवल गलत तरीके से किया गया
एक गैर जरूरी काम,
आत्महत्या तो  है
प्रेम की ऐसी राह चल पड़ना
जिसकी शुरुआत में ही
'एकतरफा मार्ग' लिखा हो

इसे ही बार बार
आदर्श कहा जाता है
तमाशबीनों की तरफ से
इस महिमामंडन में  कभी कभी
चुपके चुपके
पिस जाती है एक जिंदगी !

- आनंद

मंगलवार, 24 सितंबर 2013

मेरी सिगरेट




पचीस साल से थी
एक बुराई की तरह...
साथ ...मेरी सिगरेट !
अच्छाइयां इतना कहाँ रूकती हैं
छोड़ दिया एक झटके में
और महसूस किया
कि कैसे तुमने छोड़ दिया था ख्वाबों के ठीक बीच में ...
अचानक बस एक सन्देश से
बिना कुछ कहने का अवसर दिए
कई बार किया होगा मन बस एक बार बात करने का
जैसे मेरा करता है कभी कभार एक कश लेने का
मगर कुछ भय और कुछ अहम्
भय कि फिर से लत न पड़ जाए
अहम् कि  मैंने त्याग दिया
और इस तरह किसी एक पल में
अचानक लिया गया निर्णय
हो जाता है स्थायी ...
   
असल में
छोड़ना  है ही आकस्मिक क्रिया
धीरे धीरे कुछ नहीं छूटता
धीरे धीरे तो कसता है
हर फंदा
और फिर एक दिन अचानक
छूट जाता है वर्षों का साथ
जैसे कि मेरी सिगरेट,

कुछ जिंदगियाँ भी तो सिगरेट जैसी होती हैं
हमेशा सुलगकर सुकून देती
और कभी भी अचानक छोड़ दिए जाने को तैयार !

 - आनंद 

रविवार, 22 सितंबर 2013

दर्द को मेहमानखाने से हटाकर रख दिया

दर्द को मेहमानखाने से हटाकर रख दिया
फिर वहीँ हंसती हुई फ़ोटो मढ़ाकर रख दिया

रख दिया अलमारियों में बंद करके रतजगे
और टूटे ख्वाब के टुकड़े उठाकर  रख दिया

आ गया था दिल किसी मगरूर क़दमों के तले
आदतन उसने जरा खेला  मिटाकर रख दिया

कुछ तसव्वुर जिंदगी भर साथ रहने थे मगर
मैंने हर तस्वीर एल्बम में लगाकर रख दिया

जब  कभी तारीकियाँ होंगी  जला लेगा  मुझे
रोशनी थी इसलिए शायद बुझाकर रख दिया

घूम आया हर गली 'आनंद' जिसके वास्ते
जिंदगी ने वो हसीं लम्हा छुपाकर रख दिया

_ आनंद

शुक्रवार, 13 सितंबर 2013

आंसुओं की झील में ही

आँसुओं की झील में ही प्यास को जीते चलें
सैकड़ों की भीड़ में वनवास को जीते चलें

जब बनेगी तब बनेगी बात मंजिल से, अभी
राह के हाथों मिले संत्रास को जीते चलें

हो गयीं हदबंदियाँ अब दोस्ती में  प्रेम में
इस नदी में बाँध के अहसास को जीते चलें

काम आएँगी यही बेचैनियाँ, एकान्त में
जब तलक है, साथ के आभास को जीते चलें

हाथ में पकड़ा रहा है वक़्त, जीने के लिए
एक झूठी आस, लेकिन आस को जीते चलें

 - आनंद 

गुरुवार, 12 सितंबर 2013

बेईमानी

बात चाहे खेल की हो
या जंग की
अब ये लगभग निश्चित है कि
जीतना तुझे ही है …. जिंदगी !
वैसे भी जो तेरे लिए खेल है
वही मेरे लिए जंग
मैं इस खेल में हूँ ही इसलिए
तेरी जीत जीत लगे
मेरा समर्पण  या पलायन
तुझे वंचित कर देगा
जीत के सुख से
इसलिए हार निश्चित जानते हुए भी
बने रहना है इस खेल में
बचपन में लुकाछिपी खेलने के दौरान
सीखी गयी बेईमानी
अब, बड़े काम आ रही है !

- आनंद



बुधवार, 11 सितंबर 2013

मैं प्रेम में नहीं हूँ ...

मैं प्रेम में नहीं हूँ
मगर महसूस करता हूँ
अपनी सांसों में एक खुशबू
एक नन्ही सी जान ने जैसे खरीद लिए हों
गुलाबों के खेत के खेत
अनायास याद आ जाती है
कस्तूरी और कस्तूरी मृग की कथा,
इन्द्रधनुषी आकाश से उतर कर ईश्वर जब स्वयं
बढ़ा दे दोस्ती का हाथ
तब बेमानी हो जाती है
सारी बातें
मिलने और बिछुड़ने की,
दसों दिशाओं में किसी की ऐसी अलौकिक उपस्थिति
पहले तो कभी नहीं रही !

मैं प्रेम में नहीं हूँ
मगर काम करते-करते अचानक रुक जाते हैं हाथ
कोई इतना पास आ जाता है कि
पल भर को मन
बच्चा हो उठता है
उसे छूने की ललक में उठे हाथ
यन्त्र चालित से पहुँचते हैं
अपनी ही आँखों तक
आजकल ऐनक बार बार दुरस्त करते
रहने का मन होता है,
और आज से पहले...
अपने आँसू… कभी मोती नहीं लगे
न ही कभी हुई
उन्हें किसी के चरणों में चढ़ाने की
इतनी व्याकुलता !

मैं प्रेम में नहीं हूँ
मगर प्रेम शायद हो मुझमें कहीं
जैसे विष में भी छुपी होती है औषधि
शोधन… निरंतर शोधन से
संभव है औषधि का जैसे प्रकट हो जाना
वैसे ही शायद संभव हो सके एक दिन
मेरा अर्पण,
जिसे स्वीकार भी कर सको तुम…  मेरे आराध्य,

माँ कहती है
भाव के घाव कभी नहीं भरते
प्रेम के भी अश्वत्त्थामा हुए हैं
जो कभी नहीं मरते…. !

- आनंद




सोमवार, 9 सितंबर 2013

आँखों में एक किर्च सी अक्सर गड़ी रही

आँखों में एक किर्च सी अक्सर गड़ी रही
ख्वाबों से हकीक़त ही  हमेशा  बड़ी रही

मैं मौत से भी अपने तजुर्बे न कह सका
लछमन की तरह सर की तरफ वो खड़ी रही

इस जिंदगी ने इतना तवज्जो दिया मुझे
हरदम मेरे सुकून के पीछे पड़ी रही

आज़ाद इश्क़ ने तो मुझे भी किया मियाँ  
पर रूह मिरी क़ैद की खातिर अड़ी रही

अगले जनम में देखने की बात हुई है
'आनंद' तुझे बेवजह जल्दी बड़ी रही

- आनंद



गुरुवार, 5 सितंबर 2013

बेवकूफ़




(एक)

तुमसे आगे नहीं बढ़ पाई
न मेरी कविता
न मैं,
हाँ बढ़ गया वक़्त
एक दिन
धीरे से कान में कहता हुआ
'बेवकूफ़'...
मैंने चौंककर खुद को देखा
मुस्कराया
आश्वस्त हुआ
कि आख़िरी वक़्त में कुछ तो रहेगा
पहचान के लिए
तुम न सही
तुमसे मिला कोई नाम ही सही  !

(दो)

मुझे शांति चाहिए
बेशक उसका नाम मृत्यु हो
तुम्हें संघर्ष चाहिए
बेशक उसका नाम जीवन हो
तुम मुझे भगोड़ा कहते हो
और मैं तुम्हें 'लालसी'
दोनों
जितना सही हैं
उतना ही गलत
तुमसे विछोह
शांति के बाद का संघर्ष है
तुम्हारा साथ
संघर्ष के बाद की शांति है
जीवन के लिए दोनों जरूरी हैं
ठीक हम दोनों के साथ की तरह !

- आनंद