रविवार, 14 जून 2015

विक्रम बैताल

एक दिन खाली करनी ही होंगी वो सारी दीवारें
जिनमें टंगे टंगे धूल खा रहे हैं
कल्पनाओं के अगनित चित्र
और ढेर सारी यादें
मगर घर में नहीं बची है
इन्हें रखने के लिए एक भी सन्दूक
जैसे यादों में
नहीं बची है अब एक भी उम्मीद,

बैताल सी यादें
अक्सर कुछ न कुछ पूछती हैं मुझसे
मैं अक्सर पकड़ा देता हूँ उनको भी वही जवाब
जिनसे हमेशा बहलाया करता हूँ खुद को
मसलन
तुम मेरे होते तो मेरे होते
वर्तमान ही सत्य है बाकी सब भ्रम है
जीवन एक अभिनय है
अभिनय में न कोई मिलता है... न बिछुड़ता
आदि आदि ,

यादें फिर भी नहीं जाती
किसी वृक्ष पर
यादें फिर भी नहीं करती
मेरे सर के टुकड़े टुकड़े,
मैं और यादें
आज के विक्रम बैताल हैं
एक दूसरे के बिना अस्तित्वहीन
एक दूसरे के साथ को अभिशप्त

- आनंद


शनिवार, 6 जून 2015

होना न होना

जब जब मैं यह देखता हूँ
जीवन में क्या क्या है मेरे पास
तुम्हारा नहीं होना
हमेशा साथ होता है

तुम्हारी इस तदबीर पर
बेसाख्ता मुस्कराता हूँ ,
मान लेता हूँ
कि तुम हो बाबा... आज भी
मुझमें सबसे ज्यादा !


- आनंद