शनिवार, 6 जून 2015

होना न होना

जब जब मैं यह देखता हूँ
जीवन में क्या क्या है मेरे पास
तुम्हारा नहीं होना
हमेशा साथ होता है

तुम्हारी इस तदबीर पर
बेसाख्ता मुस्कराता हूँ ,
मान लेता हूँ
कि तुम हो बाबा... आज भी
मुझमें सबसे ज्यादा !


- आनंद

3 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा रचना


    यहाँ यहाँ भी पधारें
    http://chlachitra.blogspot.com
    http://cricketluverr.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं