शुक्रवार, 5 जून 2020

लाउडस्पीकर की याद

उधर गैस (पेट्रोमैक्स) जलाने की तैयारियाँ जोरों पर थीं, जैसे जैसे शाम गिरने लगी थी माहौल में गहमागहमी बढ़ती जा रही थी, गैसों में मेन्टल बाँधे जा रहे थे हवा भरी जा रही थी, जल चुकी गैसों को यथा स्थान टाँगा जा रहा था, दुआरे एक हल उल्टा गाड़ दिया गया था जिस पर एक बड़ी वाली हंडा गैस टंग चुकी थी, उधर घर के लंबे-चौड़े आँगन के एक कोने में जमीन ढलवाँ लंबा खोदकर गुइल (सामूहिक चूल्हा) बनाई गई थी जिसके मुख पर सूरज की किरणों की डिजाइन में ईंट रखकर उसे बीच बीच में गीली मिट्टी से भरकर स्थायित्व और आँच नियंत्रित रखने का इंतजाम किया गया था उसी से सटकर पानी भरे लोटे के ऊपर चावल से भरी कटोरी रखी हुई थी जिस पर कड़वे तेल से भरा एक दीपक जल रहा था, चावल के साथ एक दस रुपये का नोट भी रखा हुआ था, बगल में जमीन में चार-पाँच अगरबत्तियां जल रहीं थी। गुइल के साथ ही लगभग आधे आँगन को कवर करते हुए एक बड़ी सी जाजिम बिछी हुई थी जिसपर महिलाओं का झुन्ड गीत गाते हुए पूरियाँ बेलने में लगा था जाजिम के किनारे किनारे पाँच छह लोग आँटा सानने में लगे थे इनमें एक दो युवा और लड़के भी थे जो नज़र बचा कर बार बार औरतों के बीच में बैठी लड़कियों को देख रहे थे।सफेद धोती पहने कमर में लाल अंगौछा कसे एक सज्जन पूरियाँ निकालने में तल्लीन थे, औरतें एक एक कर के बेली हुई पूरियाँ कड़ाही के पास जाजिम पर बिछे दूसरे कपड़े पर उछाल रहीं थी जिन्हें कढ़ाही के दूसरी तरफ बैठे दूसरे सज्जन उठा उठाकर फुर्ती से कढ़ाही में डाल रहे थे। जस्ते के विशाल और बंद भगोने में सब्जी रखी हुई थी, बनी हुई पूड़ियाँ लकड़ी के एक दूसरे बड़े झौव्वा में सलीके से लगायी जा रहीं थीं ताकि परोसे जाने तक गरम बनी रहें, माहौल में एक अव्यक्त उत्साह और उत्तेजना व्याप्त थी, बाहर घर मुहल्ले और रिश्तेदारों के बच्चे बाजा वाले के पास भीड़ लगाए हुए थे बाजे वाला मशीन का हैंडल जोर जोर से घुमाता है तावा (रिकॉर्ड) तेजी से नाचने लगता है वह हैंडल उठाकर उसकी सुई को तावा के किनारे रख देता है हवा में एक आरती बजने लगती है, पहला गाना अनिवार्य रूप से धार्मिक बजाना है यह नियम बाजा वाले को अच्छी तरह से मालूम है।
इन सबसे दूर गाँव के एक घर में छत पर लेटा एक और लड़का अपनी माँ से पूछता है
"अम्मा तेवारी खियाँ ते खाय क बोलौव्वा आवा कि नहीं?"
"अबै नहीं"
"अबै कहौ फलदनहै न आए हुऐं" अम्मा जबाब देती हैं ।
लड़का अपना ध्यान लाउडस्पीकर की आवाज़ पर केंद्रित किये हुए है जिसकी आवाज़ हवा के रुख से कभी धीमी तो कभी तेज़ सुनायी दे रही है उसमें इस समय तीसरा गाना बज रहा है
"ये गोटेदार लहँगा निकलूँ जब डाल के, ... छुरियाँ चल जाएँ मेरी मतवाली चाल पे"

ये मई और जून के महीने भी क्या होते थे तब पुदीनहरा की गोली और न्योते का कार्ड, बप्पा के कुर्ते की जेब में ये दो चीजें पड़ी ही रहती थीं। किसी किसी दिन तो गाँव में एक साथ कई कई लाउडस्पीकर बजते थे अलग अलग दिशाओं में, एक तरफ़ से 'बहिरे बाबा' की आवाज़ आती तो दूसरी तरफ से नौटंकी 'सुल्ताना डाकू' की, हवा के झोंको के साथ तीसरी तरफ से सुनाई पड़ता "झुलनी का रंग साँचा हमार पिया"।
सपन हो गईं वो सब बातें आंखों के आगे देखते ही देखते। दुनिया को इतनी भी तेजी से नहीं बदलना था।

©आनंद

सोमवार, 9 मार्च 2020

Corona कोरोना वाली होली

कोरोना का रोना
ऊधौ कोरोना का रोना
इत से निकरी सुघर गोपिका उत से गोप सलोना
इतने में मोबाइल बज गयो फैला है कोरोना
खुद का मुँह छूने को रोकै कहै हाथ खुब धोना
ऊधौ कोरोना का रोना

गोप कहै सुनु सुमुखि सुलोचनि हमरी बात सुनो ना
ढेर न छेड़ूँगा मैं गोरी इक किस्सू दे दो ना
रोग दोख का डर सारो इस पिचकारी से धोना
ऊधौ कोरोना का रोना

इत फागुन का रंग चढ़ रह्यो उधर रोग का रोना
गोपी बरजै सुनो साँवरे हमको आज छुओ ना
सुना नहीं सरकार कह रही गज़ भर दूर रहो ना
ऊधौ कोरोना का रोना

© आनंद

रविवार, 1 मार्च 2020

शहर में चाँदमारी

हवा में गंध तारी हो गयी है
शहर में चाँदमारी हो गयी है

यही बोया था हमने जो उगा है ?
ये कैसी काश्तकारी हो गयी है

लहू को देख, खुश होने लगे हैं
ये क्या आदत हमारी हो गयी है

वो इन्सां था कि प्यादा, मर गया है
मगर कुर्सी खिलाड़ी हो गयी है

संपोले दूध पीकर डस रहे हैं
सियासत को बीमारी हो गयी है

गज़ब जस्टिफिकेशन हो रहे है
जुबाँ सब की कटारी हो गयी है

है अगला कौन सा घर कौन सा सर
अभी मर्दनशुमारी हो गयी है

यहाँ से देश की क्या राह होगी
हमारी जिम्मेदारी हो गयी है

अभी 'आनंद' का मौसम नहीं है
ख़ुशी पर रंज भारी हो गयी है ।

© आनंद










गुरुवार, 27 फ़रवरी 2020

दंगे

अज़ब जद्दोजहद में जी रहे हैं
फटे हैं जिस्म, झण्डे सी रहे हैं

हमारा कान कौव्वा ले गया है
हमारे दोस्त दुःख में जी रहे हैं

अचानक देशप्रेमी बढ़ गए हैं
कुएँ में भाँग है सब पी रहे हैं

ये साज़िश और नफ़रत का जहर है
जिसे अमृत समझकर पी रहे हैं

हमारी चेतना शायद मरी है
हज़ारो साल कठपुतली रहे हैं

हमें क्यों दर्द हो इन मामलों से
कि हम विज्ञापनों में जी रहे हैं

ये फर्ज़ी मीडिया का दौर है जी
गलत को देखकर लब सी रहे हैं

अकेले हैं तो है 'आनंद' वरना
हुए जब भीड़ नरभक्षी रहे हैं ।

© आनंद

सोमवार, 24 फ़रवरी 2020

डर लगता है

'टुकड़े-टुकड़े' नारों वालों, मॉबलिचिंग के पैरोकारों
मुझको दोनों के नारों से डर लगता डर लगता है

जिसको मौका मिला उसी ने जमकर अपना नाम कमाया
झूठै ओढ़ा झूठ बिछाया, झूठै खर्चा झूठ बचाया
अब ऐसे ठेकेदारों से डर लगता है डर लगता है

मुझको तेरा भय दिखलाकर तुमको मेरा भय दिखलाया
थी जो मेड़, बन गयी खाई फिर पक्की दीवार बनाया
हमे तुम्हारे तुम्हें हमारे व्यवहारों से डर लगता है

कपटसंधियाँ करने वाले जनगणमन का गान कर रहे
षडयंत्रो की रचना वाले संविधान का नाम जप रहे
मुझको इन रचनाकारों से डर लगता है डर लगता है !!

© आनंद

मंगलवार, 4 फ़रवरी 2020

उम्मीद

काटोगे तो कट जायेगी
ये बदरी भी छँट जायेगी

बच्चे आपस में झगड़े तो
माँ की छाती फट जायेगी

नफ़रत की चट्टान अगर है
जोर लगाओ हट जायेगी

आओ मन का मैल मिटाएँ
आधी बात निपट जायेगी

दोनों के दिल साफ रहे तो
यह खाई भी पट जाएगी

अच्छा सोचो अच्छा बोलो
सब कड़वाहट मिट जायेगी

बाँटो कुछ 'आनंद', ज़िंदगी
आख़िर तो मरघट जायेगी।

© आनंद



शनिवार, 18 जनवरी 2020

जो होता है होने दो

जिसकी चादर दाग़दार है उसको अपनी धोने दो
कब तक सर पटकोगे बाबा जो होता है होने दो

हिंसा आगजनी धरनों या लिचिंग फिचिंग पर बोले तो
आँखों में खटकोगे बाबा, जो होता है होने दो

नेता अफ़सर संघी वामी सभी देश के सेवक हैं
कहाँ कहाँ अटकोगे बाबा जो होता है होने दो

सबकी आदत पड़ जाती है सबको जीना पड़ता है
तुम कब तक मटकोगे बाबा जो होता है होने दो

इसके भाषण उसकी गाली, उसकी गुण्डागर्दी पर
तुम भी सर झटकोगे बाबा, जो होता है होने दो

दूर दूर से ट्वीट करोगे चिंता में घुल जाओगे
पास नहीं फटकोगे बाबा, जो होता है होने दो

जीवन का 'आनंद' ढूँढते सत्ता के संघर्षों में
तुम उल्टा लटकोगे बाबा जो होता है होने दो ।

© आनंद

सोमवार, 6 जनवरी 2020

कहीं कुछ ठहरा है

सहरा में है शहर, शहर में सहरा है
भाग-दौड़ के बीच कहीं कुछ ठहरा है

इश्क़ निठल्लों के बस का है खेल नहीं
किस्सागोई नहीं, रोग ये गहरा है

वो आँखों ही आँखों में कुछ बोले हैं
उनकी भाषा है और मेरा ककहरा है

एक बार हमने भी पीकर देखा था
वर्षों गुज़रे नशा अभी तक ठहरा है

हम भी वैसे हैं जैसी ये दुनिया है
मुझ पर शायद रंग कुछ ज्यादा गहरा है

कुछ दस्तूर ज़माने के जस के तस हैं
मोहरें लुटती हैं, कोयले पर पहरा है

सब अपने हैं साहब किसको क्या बोलें
ये 'आनंद' समझिये, गूँगा बहरा है।

© आनंद