शुक्रवार, 17 जुलाई 2020

सावन का झूला...

ऐसा नहीं है की सावन का झूला केवल लड़कियों को ही आकर्षित करता हो ... मुझे ठीक से याद है मेरा पहला झूला अन्दर वाली कोठरी के दरवाजे पर सांकल चढ़ाने वाली कुण्डी में पड़ा था ...बैठने की जगह पर आधी आधी तकिया दोनों तरफ लटकाई गयी थी अगले एक दो सालों में वो घर की धन्नियों से होता हुआ मुख्यद्वार तक पहुंचा और बैठने के लिये तकिया का स्थान पेढई (पाटा जिस पर बैठकर खाना खाया जाता था) ने ले लिया था ... फिर लोहारन के दरवाजे वाली नीम में पड़ने वाला पटरा ... किसकी पेंगे कितनी दूर तक जाती हैं, कौन नीम की पत्ती छूकर आता है.... झूला रुकते ही उसपर चढ़ने की मारामारी... सावन के अंतिम दिनों में तो बाकायदा नंबर लगता था ..........कितने प्रकार के गीत गए जाते थे जब महिलाओं का समय झूलने का रहता था तब, अपनी छत से ही नीम की पत्तियों का लहरा-लहरा के नाचना देखकर समझ लेते थे की झूला चल रहा है ..... कभी कभी झूले की रस्सी या झूला टूट भी जाता था ...ऐसे में जिनके हाथ में रस्सा होता था वही बचते थे बाकी सारे बदाबद गिरते भी थे ... जब गाँव से कस्बे में रहने लगा ... तो भी झूला नियमित पड़ता रहा मोहल्ले में ... बस यहीं दिल्ली में आकर ही सब छूट गया मगर छूटकर भी सारा कुछ जीवित है अन्दर ... बस आंख सी भर आती है कभी कभी। पार्क के झूले मुझे आकर्षित नहीं करते वो मुझे शहरी जीवन के प्रोटोकॉल जैसे लगते हैं।


5 टिप्‍पणियां: