बुधवार, 19 सितंबर 2012

सुनते सुनते ऊब गए हैं किस्से लोग बहारों के

उड़ते  उड़ते   रंग   उड़  गए  हैं   सारी   दीवारों   के
सुनते  सुनते  ऊब  गए  हैं  किस्से  लोग  बहारों के

जीते जी जिसने दुनिया में 'कल का कौर' नहीं जाना
मरते  मरते  भी  वो  निकले  कर्जी  साहूकारों  के

बढते  बढते  मंहगाई  के  हाथ  गले तक  आ  पहुँचे
कुछ  दिन  में  लाशों  पर  होंगे  नंगे नाच बज़ारों के

कम से कम तो आठ फीसदी की विकाश दर चहिये ही
भूखी जनता  की  कीमत  पर,  मनसूबे   सरकारों  के

राजनीति  से  बचने  वाले  भले  घरों  के  बाशिन्दों
कल  सबकी  चौखट  पर  होंगे  पंजे  अत्याचारों  के

कहते कहते जुबाँ थम गयी चलते चलते पांव रुके
अब  मेरे  कानों में  स्वर  हैं  केवल  हाहाकारों के

ये 'आनंद' बहुत छोटा था जब वो आये थे  घर-घर
अब फिर जाने  कब  आयेंगे  बेटे 'सितबदियारों' के


--------- 'कल का कौर' = सुकून की रोटी ...यह अवधी का एक मुहावरा है
              सितबदियारा = जयप्रकाश नारायण का गाँव

- आनंद
१९-०९-२०१२ 

15 टिप्‍पणियां:

  1. जीते जी जिसने दुनिया में 'कल का कौर' नहीं जाना
    मरते मरते भी वो निकले कर्जी साहूकारों के
    kya baat aanaad ji k

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 22/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीते जी जिसने दुनिया में 'कल का कौर' नहीं जाना
    मरते मरते भी वो निकले कर्जी साहूकारों के

    ...आज के यथार्थ का बहुत सटीक चित्रण..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ’कल सबकी चौखट पर पंजें होंगे अत्याचारों के’
    आज की भयाभव राजनैतिक स्थिति का सत्य.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज की राजनीति और समाज की सच्चाई है ये...

    उत्तर देंहटाएं