शनिवार, 16 दिसंबर 2017

सुहानी राह है हम हैं

सुहानी राह है, हम हैं, सफर है
यहाँ से ज़िंदगी हद्दे नज़र है

मुहब्बत नाम की एक शै मिली है
मगर वो इस जहाँ से बेख़बर है

महकते गेसुओं ने ख़त लिखा है
मुसाफिर, अब ये दूरी मुख़्तसर है

ये मस्ती चाल की ये लड़खड़ाहट
ये मयख़ाना नहीं उसकी नज़र है

हमारे ग़म, हमीं को बेंच देगा
यही बाज़ार का असली हुनर है

कबीरों की न अब कोई सुनेगा
सियासत का बड़ा गहरा असर है

कहीं आनंद मिलता हो तो ले लें
ये बस्ती तो प्रदूषण है ज़हर है ।

© आनंद

7 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, १७ दिसम्बर को लिया गया था शेर ए पंजाब का प्रतिशोध “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, १७ दिसम्बर को लिया गया था शेर ए पंजाब का प्रतिशोध “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आप की रचना को सोमवार 18 दिसम्बर 2017 को लिंक की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सूंदर और अर्थपूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! शानदार ग़ज़ल ! मृदुल एहसासों की ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति. बधाई एवं शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं