रविवार, 24 दिसंबर 2017

दिसंबर के ख़्वाब...

(१)

हमें एक सीढ़ी बनानी थी
छत पर धूप में पड़े ख़्वाबों तक पहुँचने और उन्हें सूर्यास्त से पहले ही उतार लेने के लिए,
अम्मा बाबू जी को खत में लिखा करती थीं ये बात.. कि
दिसम्बर के दिनों अगर ख़्वाबों की देखभाल ठीक हो जाये तो बसंत आने पर खिलते हैं उनमें
मनभावन फूल,
मैं अकेले बाँस तो हो सकता था किंतु सीढ़ी नहीं
हमारे भावों की एक सीढ़ी
घर की छत तक तभी पहुँच पायी
जब तुम्हारा समर्पण लग गया उसमें डंडों की तरह,
किसी का ऊपर चढ़ना या नीचे उतरना
हो सकता है एकांतिक यात्रा
किंतु
सीढियाँ हमेशा प्रतीक हैं साथ की सहचर की !

मेरी सहचरी !
तुम्हें बसंत ऋतु की हार्दिक शुभकामनाएँ !

(२)

दिसंबर के किसी ख़्वाब में घुसती हुई
नवंबर की याद और जनवरी की कल्पना को... अब
डपट देता हूँ मैं
पूस माघ वाले समय में ऐसा नहीं कर पाता मैं
तब उतरते अगहन में फागुन की कल्पना और तैयारी
दोनों सहज स्वीकार्य थीं
अंग्रेजों के आदर्श जीवन ने तो हमारे फागुन से भी फगुनहट छीन ली,
इस दिसंबर मैंने भी कोई ग्लोबल सपना नहीं देखा
न धरती को सुंदर बनाने का
न ही सुख और समृद्धि का
बस खोया रहा तुम्हारी कजरारी आँखों की शर्मीली मुस्कान में
सुना है इस बार फागुन और बसंत ने हाथ मिला लिया है
मार्च की बजट समीक्षाओं के खिलाफ़,

सुनो
इस बार फागुन का हर रंग जी लेना
और जी लेना इस साल की बसंत बहार !

© आनंद

8 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद ब्लॉग पर 'सोमवार' ०१ जनवरी २०१८ को लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  2. दोनों ही रचनाओं में बेहतरीन दिसंबर के ख़्वाब सृजित हुए हैं. बज़ट अब और पीछे खिसक आया है. बधाई एवं शुभकामनायें.
    नव वर्ष की मंगलकामनाएें .

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको सूचित करते हुए बड़े हर्ष का अनुभव हो रहा है कि ''लोकतंत्र'' संवाद ब्लॉग 'मंगलवार' ९ जनवरी २०१८ को ब्लॉग जगत के श्रेष्ठ लेखकों की पुरानी रचनाओं के लिंकों का संकलन प्रस्तुत करने जा रहा है। इसका उद्देश्य पूर्णतः निस्वार्थ व नये रचनाकारों का परिचय पुराने रचनाकारों से करवाना ताकि भावी रचनाकारों का मार्गदर्शन हो सके। इस उद्देश्य में आपके सफल योगदान की कामना करता हूँ। इस प्रकार के आयोजन की यह प्रथम कड़ी है ,यह प्रयास आगे भी जारी रहेगा। आप सभी सादर आमंत्रित हैं ! "लोकतंत्र" ब्लॉग आपका हार्दिक स्वागत करता है। आभार "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  4. निमंत्रण पत्र :
    मंज़िलें और भी हैं ,
    आवश्यकता है केवल कारवां बनाने की। मेरा मक़सद है आपको हिंदी ब्लॉग जगत के उन रचनाकारों से परिचित करवाना जिनसे आप सभी अपरिचित अथवा उनकी रचनाओं तक आप सभी की पहुँच नहीं।
    ये मेरा प्रयास निरंतर ज़ारी रहेगा ! इसी पावन उद्देश्य के साथ लोकतंत्र संवाद मंच आप सभी गणमान्य पाठकों व रचनाकारों का हृदय से स्वागत करता है नये -पुराने रचनाकारों का संगम 'विशेषांक' में सोमवार १५ जनवरी २०१८ को आप सभी सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद !"एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं