सोमवार, 18 अप्रैल 2011

वादा कर लूँगा मगर साफ़ मुकर जाऊँगा






तेरे नजदीक से होकर..... जो गुजर जाऊँगा ,
कह नहीं सकता जियूँगा, कि मैं मर  जाऊंगा !

उनका आगाज़ ही लगता है क़यामत मुझको, 
उनको डर था कि मैं,  अंजाम से डर जाऊँगा  !

मुझको मयख्वार बनाती हुई, नज़रों वाले ..,
मैक़दे बंद ना  करना  , मैं  किधर जाऊँगा  !

तेरे दर से मुझे ,  .मंजिल का गुमाँ होता है ,
मैं जरा देर भी ठहरा,... तो ठहर जाऊँगा  !

इक  हसीं ख्वाब के जैसा,  वजूद है मेरा ,
दो घडी पलकों पे रह लूँगा उतर  जाऊँगा !

मुझपे 'आनंद' की सोहबत का असर है यारों,
वादा कर लूँगा मगर,  साफ़ मुकर जाऊँगा !!

   ---आनंद द्विवेदी १८-०४-२०११ 

17 टिप्‍पणियां:

  1. तेरे दर से मुझे, मंजिल का गुमाँ होता है

    मैं जरा देर भी ठहरा...तो ठहर जाऊँगा |

    ...........................................................

    वाह क्या कहना ,,,,लाजवाब शेर ....उम्दा ग़ज़ल

    जवाब देंहटाएं
  2. पूरी गज़ल ही काबिले तारीफ़ ..कोई एक अशआर चुनना हो तो सारे ही चुन लिए जाएँ .... बहुत खूबसूरत

    जवाब देंहटाएं
  3. इक हसीं ख्वाब के जैसा, वजूद है मेरा ,
    दो घडी पलकों पे रह लूँगा उतर जाऊँगा !

    बहुत खूब ... हर पंक्ति लाजवाब ...।

    जवाब देंहटाएं
  4. तेरे दर से मुझे , .मंजिल का गुमाँ होता है ,
    मैं जरा देर भी ठहरा,... तो ठहर जाऊँगा !

    इक हसीं ख्वाब के जैसा, वजूद है मेरा ,
    दो घडी पलकों पे रह लूँगा उतर जाऊँगा !

    बहुत सुन्दर पोस्ट

    जवाब देंहटाएं
  5. भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  6. मुझको मयख्वार बनाती हुई, नज़रों वाले ..,
    मैक़दे बंद ना करना , मैं किधर जाऊँगा !

    तेरे दर से मुझे , .मंजिल का गुमाँ होता है ,
    मैं जरा देर भी ठहरा,... तो ठहर जाऊँगा !
    Wah!Wah!Wah! Pooree rachana aprateem hai! Kin panktiyon ko dohraya jaye??

    जवाब देंहटाएं
  7. तेरे दर से मुझे , .मंजिल का गुमाँ होता है ,
    मैं जरा देर भी ठहरा,... तो ठहर जाऊँगा
    vishwaas aur pyaar hai , bahut hi khoobsurat khyaal...

    जवाब देंहटाएं
  8. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 19 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  9. मुझपे 'आनंद' की सोहबत का असर है यारों,
    वादा कर लूँगा मगर, साफ़ मुकर जाऊँगा !!

    सही है , वक्त का तकाज़ा है ...शुभकामनायें !!

    जवाब देंहटाएं
  10. इक हसीं ख्वाब के जैसा, वजूद है मेरा ,
    दो घडी पलकों पे रह लूँगा उतर जाऊँगा

    खूब कहा आपने.....बेहतरीन रचना

    जवाब देंहटाएं
  11. इक हसीं ख्वाब के जैसा, वजूद है मेरा ,
    दो घडी पलकों पे रह लूँगा उतर जाऊँगा !
    वाह वाह । बेहतरीन गज़ल ।

    जवाब देंहटाएं
  12. तेरे नजदीक से होकर..... जो गुजर जाऊँगा ,
    कह नहीं सकता जियूँगा, कि मैं मर जाऊंगा !wow...

    जवाब देंहटाएं
  13. Very Good..!!!
    Really touching lines..!!
    Hmm keep it up Dad..!!

    जवाब देंहटाएं
  14. .

    तेरे दर से मुझे , .मंजिल का गुमाँ होता है ,
    मैं जरा देर भी ठहरा,... तो ठहर जाऊँगा !

    Beautiful creation !

    .

    जवाब देंहटाएं