मंगलवार, 1 नवंबर 2011

हर सांस तेरा नाम लिये जा रहा हूँ मैं




हर सांस तेरा नाम लिए जा रहा हूँ मैं
सारे हसींन ख्वाब जिए जा रहा हूँ मैं !!


तू मुझको संभाले ना संभाले तेरी मर्ज़ी ,
इतना तो होश है की पिए जा रहा हूँ मैं !

मूरत पे हक़ किसी का, पर 'श्याम' तो मेरा,
कुछ इस तरह से प्यार किये जा रहा हूँ मैं !

कातिल ने इस दफा भी मेरी जान बक्स दी ,
अब इस अदा पे जान दिए जा रहा हूँ मैं !


मैं जाऊं जहाँ भी, वो जगह तेरा दर लगे ,
इतना तो तुझे साथ लिए जा रहा हूँ मैं !

दिल में तेरे रहूँ ,भला इसकी भी फिक्र क्या
'आनंद' तेरे नाम किये जा रहा हूँ मैं   !



आनंद द्विवेदी -  ०१/११/२०११

22 टिप्‍पणियां:

  1. मूरत है किसी और की पर 'श्याम' तो मेरा,
    कुछ इस तरह से प्यार किये जा रहा हूँ मैं !
    Behad sundar!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कातिल ने इस दफा भी मेरी जान बक्स दी ,
    अब इस अदा पे जान दिए जा रहा हूँ मैं !
    वाह क्या बात है ..खूबसूरत गज़ल

    बक्स -- बख्श

    उत्तर देंहटाएं
  3. "कातिल ने इस दफा भी मेरी जान बक्स दी ,
    अब इस अदा पे जान दिए जा रहा हूँ मैं !"

    बेहतरीन प्रस्‍तुति....!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जाऊं जहाँ भी मैं वो जगह तेरा दर लगे ,
    इतना तो तुझे साथ लिए जा रहा हूँ मैं !बेहतरीन!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जाऊं जहाँ भी मैं वो जगह तेरा दर लगे ,
    इतना तो तुझे साथ लिए जा रहा हूँ मैं !
    वाह ...बहुत खूब लिखा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 3 - 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जाऊं जहाँ भी मैं वो जगह तेरा दर लगे ,
    इतना तो तुझे साथ लिए जा रहा हूँ मैं !
    बहुत खुबसूरत ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. जाऊं जहाँ भी मैं वो जगह तेरा दर लगे ,
    इतना तो तुझे साथ लिए जा रहा हूँ मैं !..

    वाह क्या लाजवाब शेर हैं इस कमाल की गज़ल में .. ये तो बहत पसंद आया ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. जाऊं जहाँ भी मैं वो जगह तेरा दर लगे ,
    इतना तो तुझे साथ लिए जा रहा हूँ मैं !
    बेहतरीन!

    उत्तर देंहटाएं
  10. •आपकी किसी पोस्ट की हलचल है ...कल शनिवार (५-११-११)को नयी-पुरानी हलचल पर ......कृपया पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें .....!!!धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हर सांस तेरा नाम लिए जा रहा हूँ मैं
    सारे हसींन ख्वाब जिए जा रहा हूँ मैं !!behtreen prem bhaavabhivaykti....

    उत्तर देंहटाएं
  12. जाऊं जहाँ भी मैं वो जगह तेरा दर लगे ,
    इतना तो तुझे साथ लिए जा रहा हूँ मैं !
    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  13. कातिल ने इस दफा भी मेरी जान बक्स दी ,
    अब इस अदा पे जान दिए जा रहा हूँ मैं !

    ओये होए .....
    क्या बात कह दी आनंद जी ......

    दिल में तेरे रहूँ ,भला इसकी भी फिक्र क्या
    'आनंद' तेरे नाम किये जा रहा हूँ मैं !

    मक्ता तो दिल लिए जा रहा है आनंद जी .....
    गज़ब लिखते हैं आप ......:))

    उत्तर देंहटाएं





  14. शायरेआज़म प्रियवर आनंद द्विवेदी जी
    सस्नेहाभिवादन !

    कातिल ने इस दफा भी मेरी जान बख़्स दी ,
    अब इस अदा पे जान दिए जा रहा हूं मैं !

    कलेजा निकाल दिया इस शे'र ने …
    क्या बात है जनाब !

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  15. समर्पण भाव से ओतप्रोत ग़ज़ल ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. तू मुझको संभाले ना संभाले तेरी मर्ज़ी ,
    इतना तो होश है की पिए जा रहा हूँ मैं !

    क्या कहने ...बहुत बेहतरीन ...!

    उत्तर देंहटाएं
  17. मूरत पे हक़ किसी का, पर 'श्याम' तो मेरा,
    कुछ इस तरह से प्यार किये जा रहा हूँ मैं !
    बहुत सुन्दर समर्पण भरे भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  18. मूरत पे हक़ किसी का, पर 'श्याम' तो मेरा,
    कुछ इस तरह से प्यार किये जा रहा हूँ मैं !……………बहुत सुन्दर भाव संयोजन्।

    उत्तर देंहटाएं