सोमवार, 7 नवंबर 2011

तेरे बाद ......



एक और पल

तुम कहते थे ना
जी लो
इन पलों को
ये चले गए तो
लौटकर नहीं आयेंगे....
अहं में डूबा हुआ
मैं
नहीं समझा पाया
तब
तुम्हारी बात |
सुनो !
क्या तुम्हारे पास
एक और पल है ?
वैसा ही !

कुछ भी नही है

कल तक
मेरे पास
समय नही था
किसी काम के लिए
आज
मेरे पास
कोई काम नही है
करने को |
बस एक
तू ही तो नही है
मगर
ऐसा क्यों लगता है कि
कुछ भी नही है
दुनिया में
मेरे लिए
अब !!

आनंद द्विवेदी ०७/११/२०११

16 टिप्‍पणियां:

  1. जिस वक्त जो मिले....उस क्षण ...उसे भरपूर जिया जाए...तो,इस काश.........वाली स्थिति से बचा जा सकता है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक और पल .. बहुत बहुत अच्छे ....
    एक गीत याद आ गया
    आने वाला पल जाने वाला है..हो सके तो इसमें जिंदगी बिता दो पल जो ये जाने वाला है.
    बहुत ही अच्छी लगी ये कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. समय के साथ सब बदल जाता है .... दोनों रचनाएँ बहुत सुंदर हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. चुप सा वही एक पल उतर आया..

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाले दिल हमारा जाने न...!
    दोनों ही रचनाएं ख़ूबसूरती के साथ अपना
    हाले दिल बयां करती हैं....!!
    समय के साथ समय रहते ही समय को जिया जा सकता है.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. संक्षिप्तता में सार कह देना ही
    मुक्त छंद काव्य की आवशयकता है
    आपकी रचनाएं
    आपकी कला क्षमता को रेखांकित करती हैं
    अभिवादन .

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुनो !
    क्या तुम्हारे पास
    एक और पल है ?
    वैसा ही !
    वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपके पोस्ट पर आना सार्थक सिद्ध हुआ । पोस्ट रोचक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आनंद जी,...
    समय के एक एक पल को जीना चाहिए
    बीता समय बार बार नही आता,समय का
    सदुपयोग करना चाहिए...सुंदर पोस्ट,..
    मेरे पोस्ट में स्वागत है ,///

    उत्तर देंहटाएं
  10. दोनों रचनाएँ बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  11. लेखनी में शब्दों की जादूगिरी ...बहुत खूब

    मैंने बस वक़्त को थामने की कोशिश भर की थी .....अनु

    उत्तर देंहटाएं