रविवार, 13 नवंबर 2011

मेरा पथ सुंदर करने को ..



मेरा पथ सुंदर करने को
कितने कष्ट उठाये तुमने
मेरे मन का तम हरने को
कितने दीप जलाये तुमने

तुमसा प्रेम निभाने वाला
इस धरती पर कौन मिलेगा
तुम सा सुंदर पुष्प दूसरा
अब उपवन में कहाँ खिलेगा
जब खुशबू का ज्ञान नहीं था
तब भी पल महकाए तुमने ,
मेरे मन का तम हरने को, कितने दीप जलाये तुमने |

'मैं हूँ' 'मेरा है' जब तक था
तब तक तुमको समझ न पाया
फिर भी कदम कदम पर हमदम 
तुमने सच  का बोध कराया ,
गीता के श्लोक हो गए
जो जो गीत सुनाये तुमने |
मेरे मन का तम हरने को , कितने दीप जलाये तुमने |

तेरी राहों में ये जीवन
अपने आप समर्पित प्रियतम
अंतर में अद्वैत प्रकाशित
अब तो न मैं हूँ और न तुम
प्रेम शांति और अहोभाव के
मुझमे बीज जगाये  तुमने |
मेरा पथ सुंदर करने को, कितने कष्ट उठाये तुमने |
मेरे मन का तम हरने को, कितने दीप जलाये तुमने ||

 - आनंद द्विवेदी - १३/११/२०११.

28 टिप्‍पणियां:

  1. अह!!
    अद्भुत!!
    सरस, गेय और सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे मन का तम हरने को कितने दीप जलाये तुमने ...
    यह एहसास भी हर दिल में कहाँ पलता है!
    सुन्दर गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'मैं हूँ' 'मेरा है' जब तक था
    तब तक तुमको समझ न पाया
    फिर भी कदम कदम पर हमदम
    तुमने सच का बोध कराया ,
    गीता के श्लोक हो गए
    जो जो गीत सुनाये तुमने |
    मेरे मन का तम हरने को , कितने दीप जलाये तुमने |
    waaah

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. 'मैं हूँ' 'मेरा है' जब तक था
    तब तक तुमको समझ न पाया
    फिर भी कदम कदम पर हमदम
    तुमने सच का बोध कराया ,
    गीता के श्लोक हो गए
    जो जो गीत सुनाये तुमने |
    मेरे मन का तम हरने को , कितने दीप जलाये तुमने |
    Gazab kee panktiyan hain!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर रचना!
    समर्पण और भक्ति का अनोखा संगम!

    उत्तर देंहटाएं
  8. गुनगुनाने लायक पंक्तियाँ..सरल,सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. aadarniy sir
    sarvpratham mere blog par aane ke liye aapka hardik abhinandan.
    bahut hi behatreen prastuti.
    sambhavtah aaj ki is bhag -doud me insaan uske hi astitv ko bhulta sa ja raha hai.han! ye puraani kahavat aaj bhi charitarth hai
    sukh me sumiran na kiya
    dukh me kiya hai yaad-----
    aapki rachna ki har ek pankti barbas hi us auor khinch kar le jaati hai.
    bahut bahut hibadhiya v antarman ko chhoone wali prastuti
    hardik badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    कल 16/11/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है।

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर निश्छल भाव पूर्ण अद्भुत रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  12. तेरी राहों में ये जीवन
    अपने आप समर्पित प्रियतम
    अंतर में अद्वैत प्रकाशित
    अब तो न मैं हूँ और न तुम
    प्रेम शांति और अहोभाव के
    मुझमे बीज जगाये तुमने |
    मेरा पथ सुंदर करने को, कितने कष्ट उठाये तुमने |
    मेरे मन का तम हरने को, कितने दीप जलाये तुमने ||

    आपकी हर कविता की खासियत है...

    आनंद.....
    जो भाव आप आरम्भ में ले कर चलते हैं
    अंत तक कहीं भी वह छूटता नहीं है...!!
    इसलिए कई बार द्विविधा में पड़ जाती हूँ कि
    किन पंक्तियों को चुनूँ प्रसंशा के लिए....!!
    क्योंकि एक की तारीफ करूँ तो दूसरे के साथ नाइंसाफी हो जायेगी !!
    पूरी रचना के लिए बधाई......!!
    अद्वितीय......!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. मेरे मन का तम हरने को
    कितने दीप जलाये तुमने

    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस संसार में प्रेम करने वाला ही अमूल्य होता है. उसी की वाणी सुंदरतम वाणी होती है. बहुत ही सुंदर भावमयी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सदा जी की हलचल ने हमें यहाँ है पहुँचाया
    आपको पढकर आनंद जी,मन आनद से हर्षाया.
    समय मिले तो आप भी मेरे ब्लॉग पर आईयेगा
    आनंद की खुशबू से मेरे ब्लॉग को भी महकाईयेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  16. अपना पथ सुन्दर करने के लिए मैंने आपके ब्लॉग का अनुसरण कर लिया है जी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. मेरे मन का तम हराने को कितने दीप जलाये तुमने ? इसी तरह सैकड़ों दीप आप जलाते रहें ऐसी अनेक शुभ कामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  18. खूबसूरत भावों का समन्वय और सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरा पथ सुंदर करने को, कितने कष्ट उठाये तुमने |
    मेरे मन का तम हरने को, कितने दीप जलाये तुमने ||
    yahi to asli pyar hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह....प्रेम रस में रची बसी रचना

    उत्तर देंहटाएं