शुक्रवार, 22 अप्रैल 2011

रह रह के अपनी हद से गुजरने लगा हूँ मैं






बेख़ौफ़ होके, .. सजने संवरने लगा हूँ मैं,
जब से तेरी गली से गुजरने लगा हूँ मैं !

कुछ काम, जो सच्चाइयों को नागवार थे ,
वो झूठ बोल बोल कर, करने लगा हूँ मैं  !

गज़लों में आगया कोई सोंचों से निकल कर,
शेर-ओ-शुखन से प्यार सा करने लगा हूँ मैं !

वो एक नज़र हाय क्या वो एक नज़र थी ,
रह रह के अपनी हद से गुजरने लगा हूँ मैं!

मुझको  कोई पहचान न बैठे  , इसी डर से  ,
अब गाँव को भी,  शहर सा करने लगा हूँ मैं !

'आनंद' फंस गया है,  फरिश्तों के फेर में ,
अब जाँच परख खुद की भी करने लगा हूँ मैं! 

   --आनंद द्विवेदी  २२-०४-२०११ 

10 टिप्‍पणियां:

  1. मुझको कोई पहचान न बैठे , इसी डर से ,
    अब गाँव को भी, शहर सा करने लगा हूँ मैं !
    'आनंद' फंस गया है, फरिश्तों के फेर में ,
    अब जाँच परख खुद की भी करने लगा हूँ मैं!

    बेहतरीन शेर...खूबसूरत ग़ज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ काम, जो सच्चाइयों को नागवार थे ,
    वो झूठ बोल बोल कर, करने लगा हूँ मैं !
    बहुत ज़रूरी है यह भी
    वरना खुद को खुद से झूठ बोलना पड़ता है...
    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति होती है आपकी

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ काम, जो सच्चाइयों को नागवार थे ,
    वो झूठ बोल बोल कर, करने लगा हूँ मैं !
    खुबसूरत शेर , मुबारक हो

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर ग़ज़ल है ...!!
    एक एक शेर बहुत उम्दा ...!!
    बधाई एवं शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझको कोई पहचान न बैठे , इसी डर से ,
    अब गाँव को भी, शहर सा करने लगा हूँ मैं !....बेहद सुन्दर गज़ल ... आनंद जी बधाई इस सुन्दर रचना के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं