शनिवार, 16 अप्रैल 2011

इन प्यार की बातों से...




मेरे यार की बातों से, इजहार  की बातों से ,
हंगामा तो होना था, इन प्यार की बातों से !

मैं वो ग़मजदा नहीं हूँ  हैरत न करो यारों,
मैं जरा बदल गया हूँ , इकरार की बातों से !

वो उदास सर्द लम्हे, तनहाई ग़म की किस्से,
मेरा लेना देना क्या है,  बेकार की बातों से !

वो कशिश वो शोखियाँ वो, अंदाजे हुश्न उनका 
फुरसत कहाँ है मुझको , सरकार की बातों से  !

मेरी धडकनों पे काबिज ..मेरी रूह के सिकंदर,
मेरा दम निकल न जाए, इनकार की बातों से !

तेरा  रह गुजर नहीं हूँ,  ...ये  खूब जानता  हूँ
तेरे साथ चल पड़ा हूँ , ..ऐतबार की बातों से  !

'आनंद' मयकदे तक पहुंचा तो कैसे पंहुचा ? 
ये राज खुल न जाए,   तकरार की बातों से !

   --आनंद द्विवेदी १६-०४-२०११ 

9 टिप्‍पणियां:

  1. मैं 'वो' ग़मजदा नहीं हूँ हैरत न करो यारों,
    मैं जरा बदल गया हूँ , इकरार की बातों से !

    वो उदास सर्द लम्हे, तनहाई ग़म की किस्से,
    मेरा लेना देना क्या है, बेकार की बातों से !

    बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Vandana ji aapka sneh nirantar mil raha hai mujhe...isse jyada kuchh chahiye bhi nahi.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी धडकनों पे काबिज ..मेरी रूह के सिकंदर,
    मेरा दम निकल न जाए, इनकार की बातों से !
    waah

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी धडकनों पे काबिज ..मेरी रूह के सिकंदर,
    मेरा दम निकल न जाए, इनकार की बातों से !

    बहुत सुंदर तरीके से आपने अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त किया है ....दम निकलने की बात कितना समर्पण दर्शाती है ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी धडकनों पे काबिज ..मेरी रूह के सिकंदर,
    मेरा दम निकल न जाए, इनकार की बातों से !

    तेरा रह गुजर नहीं हूँ, ...ये खूब जानता हूँ
    तेरे साथ चल पड़ा हूँ , ..ऐतबार की बातों से !
    Chuninda alfaaz se sajee rachana! Harek panktee dilkash!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेरा रह गुजर नहीं हूँ, ...ये खूब जानता हूँ
    तेरे साथ चल पड़ा हूँ , ..ऐतबार की बातों से !

    बेहद खूबसूरत गज़ल ....लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरी धडकनों पे काबिज ..मेरी रूह के सिकंदर,
    मेरा दम निकल न जाए, इनकार की बातों से !
    तेरा रह गुजर नहीं हूँ, ...ये खूब जानता हूँ
    तेरे साथ चल पड़ा हूँ , ..ऐतबार की बातों से !
    वाह .... बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरी धडकनों पे काबिज ..मेरी रूह के सिकंदर,
    मेरा दम निकल न जाए, इनकार की बातों से !
    वाह .... बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  9. आद० द्विवेदी जी ,

    पूरी ग़ज़ल का रूमानी अंदाज़......क्या कहना !


    "वो कशिश वो शोखियाँ वो अंदाज़े हुश्न उनका

    फुरसत कहाँ है मुझको सरकार की बातों से !

    ********************************अरे भाई , फुरसत की जरूरत ही क्या है ?

    उत्तर देंहटाएं