मंगलवार, 5 अप्रैल 2011

मुझे 'आनंद' होना था...




मुझे होशियार लोगों  को कभी ढोना नहीं आया
मुझे उनकी तरह बेशर्म भी होना नहीं आया 

मैं यूँ ही घूमता था नाज़ से, उसकी मोहब्बत पर 
मेरे हिस्से में उसके दिल का इक कोना नहीं आया 

अगर सुनते न वो हालात मेरे,  कितना अच्छा था
ज़माने भर का गम था, पर उन्हें  रोना नहीं आया 

ज़माने   को बहुत ऐतराज़,  है मेरे उसूलों पर
वो  जैसा चाहता है, मुझसे वो होना नहीं आया

नहीं हासिल हुई रौनक, तो उसकी कुछ वजह ये है 
बहुत पाने की चाहत थी मगर  खोना नहीं आया  

मैं अक्सर खिलखिलाता हूँ, मगर ये रंज अब भी है
मुझे  'आनंद' होना था ...मगर होना  नहीं  आया  |

             -आनंद द्विवेदी ०६/०४/२०११

27 टिप्‍पणियां:

  1. अगर सुनते न वो हालात मेरे, कितना अच्छा था
    फ़साना दर्द का था, पर उन्हें रोना नहीं आया !

    ज़माने को बहुत ऐतराज़ है, मेरे उसूलों पर,
    वो जैसा चाहता है मुझसे वो होना नहीं आया !
    Gazab dhaya hai!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अगर सुनते न वो हालात मेरे, कितना अच्छा था
    फ़साना दर्द का था, पर उन्हें रोना नहीं आया !

    बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ...।

    उत्तर देंहटाएं
  3. नहीं हासिल हुई रौनक , तो उसकी कुछ वजह ये है
    बहुत पाने की चाहत थी मगर खोना नहीं आया !

    बहुत ही बढ़िया पोस्ट है
    बहुत बहुत धन्यवाद|

    www.akashsingh307.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. नेताओं की करतूत कितना सही कितना गलत - आकाश सिंह

    उत्तर देंहटाएं
  5. नहीं हासिल हुई रौनक , तो उसकी कुछ वजह ये है
    बहुत पाने की चाहत थी मगर खोना नहीं आया !
    waah

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं अक्सर खिलखिलाता हूँ मगर ये रंज अब भी है
    मुझे 'आनंद' होना था ...मगर होना नहीं आया
    ***********************************
    वाह द्विवेदी जी ! बड़ी साफगोई से व्यक्त हो रही है आपकी रचना ...
    उम्दा ग़ज़ल ....हर शेर बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  7. आखिरी दो पंक्तियों ने मन मोह लिया.. वाह.. बहुत हे सुन्दर रचना ..
    मैं अक्सर खिलखिलाता हूँ, मगर ये रंज अब भी है,
    मुझे 'आनंद' होना था ..मगर होना नहीं आया

    उत्तर देंहटाएं
  8. अगर सुनते न वो हालात मेरे, कितना अच्छा था
    फ़साना दर्द का था, पर उन्हें रोना नहीं आया !...

    बहुत खूबसूरत शेर....
    बेहतरीन ग़ज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
  9. इतने सुन्दर तरीके से उत्साह वर्धन करने के लिए आप सभी का आभारी हूँ... पुनश्च धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  10. अगर सुनते न वो हालात मेरे, कितना अच्छा था
    फ़साना दर्द का था, पर उन्हें रोना नहीं आया !...

    बहुत खूबसूरत शेर....

    उत्तर देंहटाएं
  11. Anand Ji,
    Sadhuwad!
    Likhte rahein.

    Shivendra
    Johns Hopkins University,
    Baltimore, MD,USA

    उत्तर देंहटाएं
  12. इतनी सरलता, केवल ईमानदार और निश्छल लोगों में पायी जाती हैं आनंद भैया ! शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैं यूँ ही घूमता था नाज़ से, उनकी मोहब्बत पर ,
    मेरे हिस्से में उनके दिल का इक कोना नहीं आया !

    Great expression of pain experienced in LOVE !

    उत्तर देंहटाएं
  14. मुझे आनंद होना था... मगर होना नहीं आया.
    बहुत अच्छे!

    उत्तर देंहटाएं
  15. मुझे 'आनंद' होना था ..मगर होना नहीं आया !!

    wah sir ji .. what a lovery thought ...

    thanx a lot

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया देवेश जी !

      हटाएं
  16. आप सभी मित्रों के प्रति हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. Kisne keh diya ki aapko " Anand " hona nai aaya...
    Aaapke anand ki wajah se to hum log bhi anandiit ho rahe hain...bahut accha likha hai anand ji

    उत्तर देंहटाएं
  18. नहीं हासिल हुई रौनक , तो उसकी कुछ वजह ये है
    बहुत पाने की चाहत थी मगर खोना नहीं आया !
    कभी-कभी ..सब खो के भी कुछ हाथ ना आये तब क्या कीजे ???
    अच्छी गज़ल !!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया निधि जी ...अभी कुछ बाकी है खोने के लिए ...शायद ये नाम भी उसे नहीं पसंद शायद ये वजूद भी उसे नहीं पसंद !!

      हटाएं
  19. बहुत उम्दा एक एक शे,र बहुत गहरी बात कहता है...दर्द भरी गज़ल..

    उत्तर देंहटाएं
  20. नहीं हासिल हुई रौनक , तो उसकी कुछ वजह ये है
    बहुत पाने की चाहत थी मगर खोना नहीं आया !

    बस इतनी ही सी तो बात है...!!

    मुझे आनंद होना था......????
    और अब हो भो जाइये.....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. नही हासिल हुई रौनक तो उसकी कुछ वजह ये है
    बहुत पाने की चाहत थी मगर खोना नही आया


    क्या बात दिल को छू गई ये पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं