मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

मेरे आँसू झूठे लिख

मेरी राम कहानी लिख
ये बेबाक बयानी लिख

मरघट जैसी चहल-पहल
इसको मेरी जवानी लिख

मेरे आँसू झूठे लिख
मेरे खून को पानी लिख

मेरे हिस्से के ग़म को
मेरी ही नादानी लिख

मेरी हर मज़बूरी को
तू मेरी मनमानी लिख

ऊँघ रहे हैं लोग, मगर
मौसम को तूफानी लिख

मेरे थके क़दम मत लिख
शाम बड़ी मस्तानी लिख

ज़िक्र गुनाहों का मत कर
वक़्त की कारस्तानी लिख

दिल से दिल के रिश्ते लिख
बाकी सब बेमानी लिख

जब भी उसका जिक्र चले
दुनिया आनी-जानी लिख

लिखना हो 'आनंद' अगर
किस्मत की शैतानी लिख

- आनंद

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 03/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिक्र गुनाहों का मत कर
    वक़्त की कारस्तानी लिख

    बहुत बढ़िया ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़िक्र गुनाहों का मत कर
    वक़्त की कारस्तानी लिख

    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ ना कर पाने के लिए
    एक गुस्ताखी मेरे नाम लिख दो ||...अनु

    उत्तर देंहटाएं