गुरुवार, 4 अक्तूबर 2012

रास्ते तो न मिटाए कोई

बेवजह अब  न  रुलाये  कोई
गर कभी अपना बनाये कोई

दिले-नादाँ को संगदिल करलूं
कैसे, मुझको  भी बताये  कोई

वो नहीं लौटने वाला  लेकिन
रास्ते  तो  न  मिटाए  कोई

दर्द के फूल दर्द की खुशबू
दर्द के गाँव तो आये कोई

मौत आने तलक तो जीने दे
रात दिन यूँ न सताये  कोई

जिनकी महलों से आशनाई हो
क्यों उन्हें झोपड़ी भाए कोई

काश वो भी उदास होता हो
जिक्र जब मेरा चलाये कोई

एक  'आनंद' भी इसमें है जब
खामखाँ खुद को मिटाए कोई

- आनंद
०४/१०/२०१२

10 टिप्‍पणियां:

  1. काश वो भी उदास होता हो
    जिक्र जब मेरा चलाये कोई
    वाह ... बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 06/10/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेवजह अब न रुलाये कोई
    गर कभी अपना बनाये कोई
    Bahut,bahut sundar!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर बार की तरह लाजवाब...|
    "जिनकी महलों से आशनाई हो
    क्यों उन्हें झोपड़ी भाए कोई" एक सफ़ेद सच |

    सादर नमन |

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर बार की तरह...लाजवाब |
    "जिनकी महलों से आशनाई हो
    क्यों उन्हें झोपड़ी भाए कोई" एक सफ़ेद सच |

    सादर|

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही बढ़िया गजल..
    बहुत बेहतरीन..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. दर्द के फूल दर्द की खुशबू
    दर्द के गाँव तो आये कोई...........वाह बहुत खूब



    पर दर्द की इन्तहां के बाद कौन सी मंजिल है ??????

    उत्तर देंहटाएं