शुक्रवार, 7 अक्तूबर 2011

फिर वही दिन आ गये, फिर गुनगुनाना आ गया




फिर वही दिन आ गये, फिर गुनगुनाना आ गया,
जाते जाते लौटकर , मौसम सुहाना आ गया   |

फिर किसी रुखसार की सुर्खी हवा में घुल गयी,
फिर मुझे तनहाइयों में मुस्कराना आ गया   |

सबकी नजरों से छुपाकर, उसने देखा फिर मुझे,
फिर मेरे मदहोश होने का ज़माना आ गया    |

शोखियों की बात हो या सादगी की बात हो,
हर अदा से अब उसे बिजली गिराना आ गया |

अब नही पढ़ पाइयेगा, उसकी रंगत देखकर,
उस हसीं चेहरे को भी , बातें छुपाना आगया |

मेरे दिलवर से मुझे भी , कुछ हुनर ऐसा मिला,
आग के दरिया से मुझको, पार जाना आगया |

जिंदगी 'आनंद' की, अब भी वही है दोस्तों,
हाँ मगर उसको, उसे जन्नत बनाना आ गया |

- आनंद द्विवेदी   ०६/१०/२०११

11 टिप्‍पणियां:

  1. अब नही पढ़ पाइयेगा, उसकी रंगत देखकर,
    उस हसीं चेहरे को भी , बातें छुपाना आगया |
    वाह ...बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  2. "फिर किसी रुखसार की सुर्खी हवा में घुल गयी,
    फिर मुझे तनहाइयों में मुस्कराना आ गया |

    जिंदगी 'आनंद' की, अब भी वही है दोस्तों,
    हाँ मगर उसको उसे जन्नत बनाना आ गया |"

    नि:शब्द.........!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. फिर किसी रुखसार की सुर्खी हवा में घुल गयी,
    फिर मुझे तनहाइयों में मुस्कराना आ गया |..बहुत सुन्दर..क्या बात है...
    अभिव्यंजना में आप का इंतजार है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद खूबसूरत कविता. शरद के आगमन पर मौसम सुहाना हो जाता है. मन को छूती कविता

    उत्तर देंहटाएं
  5. फिर वही दिन आ गये, फिर गुनगुनाना आ गया,
    जाते जाते लौटकर , मौसम सुहाना आ गया |दिल को छूती रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  6. फिर किसी रुखसार की सुर्खी हवा में घुल गयी,
    फिर मुझे तनहाइयों में मुस्कराना आ गया |

    सबकी नजरों से छुपा कर ,उसने देखा फिर मुझे,
    फिर मेरे मदहोश होने का ज़माना आ गया |waah waah kya gajal likhi hai aapne...hamesha ki tarh padh kr mann khush ho gya....kitni aasani se likh lete hai aap dil ki apni baat ko...padhne bale aate hai or padh kar yhi ke ho jate hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर भावो से भरी गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  8. जाने मेरे दोस्तों को क्या हुआ है आज कल,
    देखते ही मुझको कहते हैं, 'दिवाना' आ गया |
    waha bahut khub

    accha laga aapko is roop mei likhte huye dekh kar

    ek naya roop...naye lekhan ke sath ......

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ...बहुत ही खूबसूरत लयबद्ध गीत जिसे गुनगुनाने का मन करे.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब ....
    शुभकामनायें आनंद भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  11. ज़बरदस्त भावों से लबरेज़.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं