बुधवार, 26 अक्तूबर 2011

प्रेम ..!



क्या कहूँ या लिखूं ..
अब तक
जो जाना था
कोई रूचि नहीं
अब उसमे ...
जो बरस रहा है
'इस पल' में
पहले उसे जी लूं
उसे पी लूं
लिखता रहूँगा ग्रन्थ
बाद में
हाँ
अगर एक शब्द में
लिखी कविता
समझ सकते हो
तो लो
लिख देता हूँ
प्रेम !!

आनंद द्विवेदी ....२४/१०/२०११

9 टिप्‍पणियां:

  1. एक ही शब्द काफी है " अमृत "

    दीपावली की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ
    अगर एक शब्द में
    लिखी कविता
    समझ सकते हो
    तो लो
    लिख देता हूँ
    "अमृत" !! बहुत ही गहन अभिवयक्ति देती रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-680:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे लगा था कि..एक शब्द लिखना होगा तो आप प्रेम लिखेंगे .

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाँ
    अगर एक शब्द में
    लिखी कविता
    समझ सकते हो
    तो लो
    लिख देता हूँ
    "अमृत" !!
    Kya baat kahee!

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह.. यह एक शब्द ही बहुत है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह एक शब्द तो पूरा सतत जीवन है... बेहद सटीक शब्द अमृत और कविता उतनी ही उम्दा ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. "अब उसमे ...
    जो बरस रहा है
    'इस पल' में
    पहले उसे जी लूं"
    ................
    "अगर एक शब्द में
    लिखी कविता
    समझ सकते हो
    तो लो
    लिख देता हूँ"
    "अमृत" !!

    खूबसूरत.....

    ***punam***
    tumhare liye....
    bas yun... hi..
    aalekh..

    उत्तर देंहटाएं