बुधवार, 9 फ़रवरी 2011

एक संजय चाहिए !


हम भारतवासी हैं
भारत !
जिसमे नेता धृतराष्ट्र  हैं
जनता....गांधारी है
पट्टी चेतना पर भी है
आत्मा पर भी !!
भारत
पट्टी के पीछे आँखों में है
दूर दृष्टि का भ्रम पाले
किन्तु अन्धा सा !
भारत
खड़ा है स्तब्ध निह्सहाय
गांधारी धृतराष्ट्र को टटोल रही है
और धृतराष्ट्र ?
वह न आत्मावलोकन कर पा रहा है
न गांधारी को देख पा रहा है
दोनों में एक समानता है अंधेपन की
एक संजय चाहिए भारत को,
जो आगे बढ़कर गांधारी की आँखों से
पट्टी नोच ले
झंझोड़ दे  अंधी चेतना को
बस........!
इतने से काम के लिए
एक संजय चाहिए
क्योंकि बाकी सब अपने आप हो जायेगा !!

           --आनन्द द्विवेदी ०९/०२/२०११

6 टिप्‍पणियां:

  1. 'एक संजय चाहिए भारत को
    जो आगे बढ़कर गांधारी की आँखों से
    पट्टी नोच ले '
    बहुत प्रभावी और राष्ट्रीय रचना द्विवेदी जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका भाई कहलाने लायक बनाने की कोशिश कर रहा हूँ सुरेन्द्र जी ...बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. वातावरण बन रहा है देश में धीरे-धीरे ...संजय भी मिल ही जाएगा भाई!

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक संजय चाहिए भारत को,
    जो आगे बढ़कर गांधारी की आँखों से
    पट्टी नोच ले
    झंझोड़ दे अंधी चेतना को
    बस........!
    इतने से काम के लिए
    एक संजय चाहिए
    क्योंकि बाकी सब अपने आप हो जायेगा !!
    बहुत ही आत्म चिंतन के लिए प्रेरित करता प्रश्न युक्त आह्वान गीत.... सादर अभिनन्दन !!!

    उत्तर देंहटाएं