शनिवार, 19 मार्च 2016

जिंदगी देख तो ..

जिंदगी देख तो हम क्या कमाल कर बैठे
इश्क़ की राह में  तुझको हलाल कर बैठे

आदतें यार की ऐसी थीं कि मैं तनहा लगूँ
समझ न पाये और हम मलाल कर बैठे

जिनको दरकार थी हम हाथ उठाये रक्खें
उन्हीं से आँख मिलाकर सवाल कर बैठे

दर्द रिसता रहे  अंदर तो प्रेम सिंचता है
लबों को खोल के नाहक बवाल कर बैठे

ये लौंडपन की सनक थी कि ग़ज़ल गायेंगे
दिलों के ज़ख्म को दुनिया का हाल कर बैठे

हम तो आज़ाद हैं इतने कि मुल्क ठेंगे पर
मुद्दआ कोई हो, हम भात- दाल कर बैठे

कर न पाई जो काम दुश्मनों की फौजें भी
सभी वो काम यहीं के  दलाल कर बैठे

गुरूर मिट गया, आनंद हो गयी दुनिया
जरा सी बात से, जीवन निहाल कर बैठे

- आनंद



6 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " एक 'डरावनी' कहानी - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आनंद जी, आपके ब्लाॅग पर पठनीय और ज्ञानवर्द्धक लेख लिए बधाई। आपके ब्लाॅग को हमने यहां पर Best Hindi Blogs लिस्टेड किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा लगा ब्लॉग पर आकर, बेहतरीन काव्य , बधाई आनंद जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. OnlineGatha One Stop Publishing platform From India, Publish online books, get Instant ISBN, print on demand, online book selling, send abstract today: http://goo.gl/4ELv7C

    उत्तर देंहटाएं