शनिवार, 28 मई 2011

वेटिंग रूम से....




प्रतीक्षालय में होना
सुखद है,
बनिस्बत 
होने के
किसी प्रतीक्षा में ..

हजारों चेहरे
और 
उनपर से गुजरते हुए 
लाखों भाव ..
किसी की आँख में 
संतोष
लगता है 
किसी अपने से 
मिलकर आ  रहा हो
वहीं  
किसी की आँखों  में 
व्यग्रता
जैसे 
उसे देर हो रही हो 
कहीं जाने की ,
एक सुरूर एक दर्प
कि कर रहा  है 
कोई इंतजार  ...

सामने 
एक जोड़ा बैठा है ...
दीन दुनिया से 
बेखबर
कहीं जाने की 
कोई जल्दी नहीं
कोई व्यग्रता नहीं
बस दो जोड़ी आँखें
उनमे चमकते जुगुनू
कुलबुलाती शरारतें
छलकता प्यार
न पैरों में 
अतीत के बंधन
न सर पर 
भविष्य का भार
कितना सुखद है
जो मेरे पास है 
उसे इस क्षण में 
पूरी तन्मयता से जीना ...!

वो कोने की सीट पर
एक लड़की बैठी है
अकेली लड़की
जो साफ-साफ  तो नहीं 
दिखाई दे रही
मगर
उसकी आँखों का 
सूनापन
चमक रहा है 
दूर से ही ..
सांसें भी 
साफ़ सुनाई दे रही हैं.
इतने शोर के बावजूद
सर्द आहें छोडती हुई 
सांसें
शायद
खोने पाने के इस खेल में
खो दिया है
उसने कुछ  !

और मेरे ठीक सामने
ये अकेले बुजुर्गवार...
जाने क्या ढूंढ रहे हैं !
हर आते-जाते 
चेहरे में
शायद वही चेहरा
जिसे ये 
जिगर का टुकड़ा 
कहते थे
जो छोड़ गया है ....
इनको इस अंतहीन
प्रतीक्षालय की 
सीढ़ियों तक ..
सोंचता हूँ
कितना सब्र होता है 
इन बुजुर्गों में
कभी उम्मीद ही नहीं छोड़ते...!

अचानक
मैं ढूँढने लगता हूँ  
तुमको ......!!
मगर
तुम नहीं हो 
इस प्रतीक्षालय में
तुम्हें नहीं है
किसी की प्रतीक्षा
शायद तुमने पा लिया है
अपना गंतव्य
मुक्त हो गए तुम 
इन छोटी मोटी बातों से..!

फिर भी
सोंचता हूँ
शायद 
दिख जाये
तुम जैसा ही कोई
इसी कोशिश में 
हर चेहरा पढ़ डाला मैंने
जीवंत  चेहरे
खिलखिलाते चेहरे
मुर्दा चेहरे
व्यापारी चेहरे
खुर्राट चेहरे
मासूम चेहरे
थके चेहरे
उफ़..!!!!
कुछ न कुछ कमी
क्यों निकल आती है सबमे
क्यों नहीं होता कोई
तुम जैसा ....!
परिपूर्ण ...!!

अचानक 
एक उद्घोषणा
गाड़ी संख्या १२७८६
नयी दिल्ली से पुरी जाने वाली
नीलांचल एक्सप्रेस गाड़ी
अनिश्चितकालीन विलम्ब से है .....

हथौड़े की तरह 
लगता है
यह शब्द
अनिश्चितकालीन  ...
तुम्हें शायद पता हो 
या  न हो
कि
प्रतीक्षा जब
अनिश्चित कालीन 
हो जाती है
तब
कितना दर्द देती है .....!!

 आनंद द्विवेदी २७/०५/२०११
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से

21 टिप्‍पणियां:

  1. रेलवे स्टेशन के वोटिंग में आपने जीवन के पहलुओं को विश्लेषित किया ...वहां हर किसी की अपनी सोच होती है ...सुखी भी नजर आता है कोई और दुखी भी ...नफरत वाला भी और प्यार वाला भी ...यानि हर तरह का इंसान नजर आता है ऐसे स्थानों पर ..और आपने हर भाव को अपनी कविता में सुन्दरता से पिरो दिया है ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. और मेरे ठीक सामने
    ये अकेले बुजुर्गवार...
    जाने क्या ढूंढ रहे हैं !
    हर आते-जाते
    चेहरे में
    शायद वही चेहरा
    जिसे ये
    जिगर का टुकड़ा
    कहते थे
    जो छोड़ गया है ....
    इनको इस अंतहीन
    प्रतीक्षालय की
    सीढ़ियों तक ......प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है .....!!
    और जब कोई जा चुका हो छोडकर तो प्रतीक्षा ... कितनी बेमानी

    उत्तर देंहटाएं
  3. वेटिंग रूम से ही कितने दृश्य दिखा दिए इस रचना के माध्यम से ...
    हर तरह के चेहरे ... बुजुर्गवार का चेहरा मर्मस्पर्शी लगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है .....!!

    कविता मे माध्यम से बहुत कुछ कह दिया और अन्त की पंक्तियाँ तो जीवन का सच कह रही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हथौड़े की तरह
    लगता है
    यह शब्द
    अनिश्चितकालीन ...
    तुम्हें शायद पता हो
    या न हो
    कि
    प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है .....!!

    मन का दर्द बयां करती हुई कविता ......
    बहुत गहन और मर्मस्पर्शी रचना ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. और मेरे ठीक सामने
    ये अकेले बुजुर्गवार...
    जाने क्या ढूंढ रहे हैं !
    हर आते-जाते
    चेहरे में
    शायद वही चेहरा
    जिसे ये
    जिगर का टुकड़ा
    कहते थे
    जो छोड़ गया है ....
    बहुत सुन्दर ठंग सेअनिश्चित कालीन प्रतीक्षा का दर्द उभारा है ……. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. वेटिंग रूम से आपने जो ज़िन्दगी का चेहरा दिखाया है उसके कई रूप दिखे। आब देखिए न इस ज़िन्दगी में बीस वर्ष की आयु में व्यक्ति का जो चेहरा रहता है, वह प्रकृति की देन है, तीस वर्ष की आयु का चेहरा जिंदगी के उतार-चढ़ाव की देन है लेकिन पचास वर्ष की आयु का चेहरा व्यक्ति की अपनी कमाई है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम्हें शायद पता हो
    या न हो
    कि
    प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है .....!!

    मन की वेदना लिए सुंदर स्पष्ट भाव.....प्रभवित करती है रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. aise to kai bar safer ham bhi hote hai per sayad itni gahraayi se kabhi nhi socha jitna ki apki rachna ne socne pe majbur kar diya... sabhi anjaan chahero ko pad liya apne... aur man ke bhaavo ko itne sunder shabdo ke sath sajaya hai bhut khubsurat hai...

    उत्तर देंहटाएं
  10. यह शब्द
    अनिश्चितकालीन ...
    तुम्हें शायद पता हो
    या न हो
    कि
    प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है ..bahut sunder gharai liye hue badiya prastuti.waiting room main baithe alag alag logon ke anter man ka saarthak chitran.badhaai aapko.

    please visit my blog and feel free to comment.thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है .....!!

    बहुत खूब कहा है इन पंक्तियों में आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है .....!!
    गहराई के साथ ..सार्थक शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 31 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह द्विवेदी साब, बहुत सुन्दर कविता ...एकदम रवां रवां

    ग़ज़ल में अब मज़ा है क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रतीक्षालय एकदम आँखों के सामने साकार हो गया ...........

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्रतीक्षा जब
    अनिश्चित कालीन
    हो जाती है
    तब
    कितना दर्द देती है .....!!
    bahut khoob....

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुपर्ब ऑब्जर्वेशन ....प्रतीक्षालय और प्रतीक्षा का जबर्दस्त्त विश्लेषण.
    बढ़िया रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  18. वेटिंग रूम से ही कितने दृश्य दिखा दिए इस रचना के माध्यम से ...
    हर तरह के चेहरे.............हर चहेरे कि अलग कहानी ...अलग बात नज़र आती है आपकी कविता में .......बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  19. अचानक
    मैं ढूँढने लगता हूँ
    तुमको ......!!
    मगर
    तुम नहीं हो
    इस प्रतीक्षालय में
    तुम्हें नहीं है
    किसी की प्रतीक्षा
    शायद तुमने पा लिया है
    अपना गंतव्य
    मुक्त हो गए तुम
    इन छोटी मोटी बातों से..!

    बहुत सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  20. I am curious to find out what blog platform you are utilizing?
    I'm experiencing some minor security problems with my latest website and I would like
    to find something more risk-free. Do you have any solutions?


    My weblog - Celebrity Height

    उत्तर देंहटाएं