सोमवार, 16 मई 2011

एक बार होना चाहिए ...



जिंदगी में कम से कम एक बार होना चाहिए
मेरी ख्वाहिश है सभी को प्यार होना चाहिए !

इश्क में और जंग में हर दांव जायज़ है, मगर
आदमी पर सामने से,   वार होना चाहिए   !

नाम भी मजनूँ का गाली बन गया इस दौर में
बोलो,     कितना और बंटाधार होना चाहिए  !

लैस है, 'वृषभान की बेटी' नयी तकनीक से ,
'सांवरे' का भी नया अवतार होना चाहिए  !

हाय क्या मासूमियत, क्या क़त्ल करने का हुनर
आपका तो नाम ही ,   तलवार होना चाहिए  !

आँख भी जब बंद हो और वो तसव्वुर में न हो
ऐसे लम्हों पे तो बस,   धिक्कार होना चाहिए  !

जिंदगी तुझसे कभी कुछ,  और मांगूंगा नही
जिस तरह भी हो, विसाल-ए-यार  होना चाहिए

खासियत क्या इश्क की 'आनंद' से पूछो ज़रा
सच बता देगा मगर,  ऐतबार होना चाहिए  !!

           -आनंद द्विवेदी  १३-०५-२०११


21 टिप्‍पणियां:

  1. जिंदगी में कम से कम एक बार होना चाहिए
    मेरी ख्वाहिश है सभी को प्यार होना चाहिए !...........bahut sundar..........kaash aisa ho jaaye..ki har shakhs ek baar pyaar kar le.......aameen

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँख भी जब बंद हो और वो तसव्वुर में न हो
    ऐसे लम्हों पे तो बस, धिक्कार होना चाहिए !
    waah

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह …………प्यार की सुन्दर अनुभूति…………शानदार्।

    उत्तर देंहटाएं
  4. लैस है, 'वृषभान की बेटी' नयी तकनीक से ,
    'सांवरे' का भी नया अवतार होना चाहिए !

    हाय क्या मासूमियत, क्या क़त्ल करने का हुनर
    आपका तो नाम ही , तलवार होना चाहिए !

    वाह क्या बात है ..बहुत खूबसूरत गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ... हर शब्‍द बेमिसाल ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय आनंद द्विवेदी जी,

    जिंदगी में कम से कम एक बार होना चाहिए
    मेरी ख्वाहिश है सभी को प्यार होना चाहिए

    खासियत क्या इश्क की 'आनंद' से पूछो ज़रा
    सच बता देगा मगर, ऐतबार होना चाहिए

    अच्छी रचना ! अच्छे भाव !

    बहुत सुंदर लिखा आपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. खासियत क्या इश्क की 'आनंद' से पूछो ज़रा
    सच बता देगा मगर, ऐतबार होना चाहिए !!
    ऐतबार होना चाहिए , कोई तर्क नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  8. "जिंदगी तुझसे कभी कुछ और मांगूंगा नहीं

    जिस तरह भी हो विसाल-ए-यार होना चाहिए "

    ................................खूबसूरत शेर

    ........उम्दा ग़ज़ल ,,,,,,,,,हर शेर बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  9. इश्क में और जंग में हर दांव जायज़ है, मगर
    आदमी पर सामने से, वार होना चाहिए !


    आँख भी जब बंद हो और वो तसव्वुर में न हो
    ऐसे लम्हों पे तो बस, धिक्कार होना चाहिए !

    जिंदगी तुझसे कभी कुछ, और मांगूंगा नही
    जिस तरह भी हो, विसाल-ए-यार होना चाहिए
    ufff ek ek sher lajwaab Anand ji.

    खासियत क्या इश्क की 'आनंद' से पूछो ज़रा
    सच बता देगा मगर, ऐतबार होना चाहिए
    ab bata hi dijiye..hume to ap par bahut aitbaar hai.:)

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्यार एक बार नही,बार बार होना चाहिये। बहुत सुन्दर भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति है

    उत्तर देंहटाएं
  11. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 17 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. जिंदगी में कम से कम एक बार होना चाहिए
    मेरी ख्वाहिश है सभी को प्यार होना चाहिए !waah... bhut khubsurat rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  13. यह एक ऐसी संवेद्य ग़ज़ल है जिसमें हमारे यथार्थ का मूक पक्ष भी बिना शोर-शराबे के कुछ कह कर पाठक को स्पंदित कर जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. लैस है, 'वृषभान की बेटी' नयी तकनीक से ,
    'सांवरे' का भी नया अवतार होना चाहिए !

    bahut khub....bahut satik gazal jindagi ki phir tho yaha aajकम से कम फिर तो आज के वक़्त हर इंसान को सांवरे बन चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  15. इश्क में और जंग में हर दांव जायज़ है, मगर
    आदमी पर सामने से, वार होना चाहिए !
    अच्छी रचना के लिए बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  16. हाय क्या मासूमियत, क्या क़त्ल करने का हुनर
    आपका तो नाम ही , तलवार होना चाहिए !

    सुन्दर भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति. अच्छी रचना के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  17. इश्क में और जंग में हर दांव जायज़ है, मगर
    आदमी पर सामने से, वार होना चाहिए !

    खासियत क्या इश्क की 'आनंद' से पूछो ज़रा
    सच बता देगा मगर, ऐतबार होना चाहिए !!

    आपके शब्दों की पकड़ लाज़वाब है !

    सारे शेर मोतियों की तरह पिरोये हैं

    और सबकी चमक भी किस्म किस्म की है..!

    बहुत खूब से ज्यादा कुछ नहीं.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन ग़ज़ल आनंद भाई.... हर शेर अच्छा बन पड़ा है.. शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  19. anand ji namaskar...kya kahu apki ye kabita pichhle kai dino se gun guna rahi thi...or aaj majbur hoke waps se padhne apke bolg pe chali aai...behad khubsurat kabita khi hai aapne...kaise likh le te ho aap..kabhi mujhe jarur bataiega.....ye line behad khubsurat hai...जिंदगी में कम से कम एक बार होना चाहिए
    मेरी ख्वाहिश है सभी को प्यार होना चाहिए !

    इश्क में और जंग में हर दांव जायज़ है, मगर क्या क़त्ल करने का हुनर
    आपका तो नाम ही , हाय क्या मासूमियत, तलवार होना चाहिए !
    आदमी पर सामने से, वार होना चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर अभिव्यक्ति अच्छी रचना के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं