गुरुवार, 3 फ़रवरी 2011

मेरे गीत !





 मेरे गीत दर्द की निशानी हैं,
मेरे गीत प्यार की रवानी हैं,
मेरे गीत अनकही कहानी हैं,
मेरे गीत मेरी जिंदगानी हैं !
               मेरे गीत मेरे कितने पास हैं,
               किन्तु जाने क्यों जरा उदास हैं,
               मेरे दिल ने मेरा साथ छोड़ दिया,
               मेरे गीत अब भी मेरे साथ हैं,
मेरे गीत आपकी जुबानी हैं,
मेरे गीत सिन्धु की मथानी हैं!

               मेरे गीत पंखुड़ी प्रसून की,
               मेरे गीत वादियाँ, सुकून की,
               सुख के मंद झोंके मेरे गीत हैं,
               मेरे गीत आंधियाँ जूनून की ,
मेरे गीत सब्र की कहानी हैं,
मेरे गीत 'चश्मनम' का पानी हैं !.

                मेरे गीत गूंजते प्रभात में,
                खिलखिलाहटों में आर्तनाद में,
                मेरे गीत हमसफ़र हैं दर्द के,
                साथ रहें हर्ष में, विषाद में,
मेरे गीत चांदनी सुहानी हैं,
मेरे गीत आज पानी-पानी हैं!

               मेरे गीत गुनगुनाइए जनाब,
               मेरे साथ-साथ गाइये जनाब,
               आपको नशा जरूर आएगा,
               मेरे गीतों में घुली हुई शराब,
मेरे गीत गर्दिशे जवानी हैं,
मेरे गीत ग़म की राजधानी हैं !
मेरे गीत अनकही कहानी हैं,
मेरे गीत मेरी जिंदगानी हैं !!

     --आनन्द द्विवेदी ०३/०२/२०११

4 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे गीत पंखुड़ी प्रसून की

    मेरे गीत वादियाँ सुकून की

    सुख के मंद झोंके मेरे गीत हैं

    मेरे गीत आंधियाँ जुनून की

    बहुत सुन्दर गीत..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुरेन्द्र जी मेरे लिए संबल स्वरुप है आपका ये उत्साहवर्धन!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका गीत जीवन प्रतिबिम्ब .वो आइना जिसमें हम सब अपना प्रतिबिम्ब निहार रहेहैं .एक जोड़ी .अनुभति के द्वन्द से ही..जीवन आरंभ होताहै,,सुख और दुःख ..उम्र के साथ उनका भी विस्तार होता है ..अपने अलग अलग आयामों में..वो सब इस गीत में समाहित है...सहज सरल भाषा में जीवन सार ..को शब्दबद्ध करने केलिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. दीदी मेरे अन्दर जो भी सत स्वरुप है ..वो आपका ही आशीर्वाद है...बच्चे को मान देने के किये ...धन्यवाद कहने का मन हुआ पर नही...ऐसे ही ठीक है

    उत्तर देंहटाएं