सोमवार, 24 अगस्त 2015

चींटी और पहाड़

मैं आज भी वही हूँ
तुम्हें अपना भगवान मानता हुआ
सहज स्वतंत्र, बंधन हीन, अपने मन का, बेपरवाह
कौतुकी, मायामय, सबकुछ खेल समझने वाला
अलभ्य अगम्य किन्तु प्रिय,

तुम आज भी वही हो
पाषाण !

- आनंद




9 टिप्‍पणियां:

  1. . बहुत सुंदर .बेह्तरीन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, अमर शहीद राजगुरु जी की १०७ वीं जयंती - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी बेहतरीन कविताओं में एक

    उत्तर देंहटाएं
  4. वह कहता है..पाषाण कभी स्वतंत्र हो सकता है भला..उसका तो मन ही नहीं होता, वह तो अलभ्य नहीं है हजारों मिलते हैं..जरा ध्यान से देखो..यहाँ पाषाण कौन है..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दीदी यहाँ नज़र उन तक गयी ही नहीं ..ये कोई बिचौलिए की बात है :)

      हटाएं
  5. बहुत ही बेहतरीन रचना है कुछ hindi quotes भी पढ़े

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bahut achchhi kavita hai dil ko chhu liya ....apko bahut bahut dhanyawad aisi kavita likhne ke liye .asha hai aur bhi kavitaye post karte rahenge.visit matrimony

    उत्तर देंहटाएं