बुधवार, 14 नवंबर 2012

टोका ग़ज़ल ने एक दिन


सुनते थे  इश्क से बड़ा मज़हब  नहीं होता
जाना कि इश्क से बड़ा करतब नहीं होता

मैं चाहता था प्यार में थोड़ा वफ़ा का रंग
मालुम हुआ कि आजकल ये सब नहीं होता

वो द्रोपदी की चीर के किस्से का क्या करूँ
बुधिया की आबरू के लिये रब नहीं होता

टोका ग़ज़ल ने एक दिन, जो कह रहे मियां
उससे किसी गरीब का  मतलब नहीं होता

जन्नत की राह होंगी यकीनन तेरी जुल्फें
'आनंद' से जन्नत का सफ़र अब नहीं होता


7 टिप्‍पणियां:

  1. लो जी फिर आ गया 'बाल दिवस' - ब्लॉग बुलेटिन बाल दिवस की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं स्वीकार करें ... आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. उससे किसी गरीब का मतलब नहीं होता |
    बहुत ही ज्यादा सुन्दर पंक्ति |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. gajal ke bhao bahut badhiya..

    मेरी नई रचना ; हम बच्चे भारत के " http://kpk-vichar.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर भावाभिव्यक्ति
    बेहतरीन कहन

    एक ग़ज़ल में एक से अधिक बहर का प्रयोग अनुचित लगा
    सादर

    उत्तर देंहटाएं