शनिवार, 21 अप्रैल 2012

कौन याद रक्खे उम्र भर...




कुछ और देखने दे,  जरा जिंदगी ठहर, 
मेरा रकीब कौन है और कौन रहगुजर |

ईमान ही साथी है  तो उसको भी  देख लूं ,
कल तक तो 'यही दोस्त' था मेरा इधर उधर |

जो दो कदम भी साथ चले उसका शुक्रिया,
मुद्दे की बात ये है कि, तनहा है हर  सफ़र |

दो घूँट हलक में गये,  हर दर्द उड़न छू,
बेशक बुरी शराब हो, पर है ये कारगर |

मैं उस जगह से आया हूँ कहते हैं जिसे 'गाँव'
अब तक नही है उसके मुकाबिल कोई शहर |

खड़िया से किसी स्लेट पर लिक्खा गया था तू,
'आनंद' !  तुझे कौन याद  रक्खे  उम्र भर  |

-आनंद
२१ अप्रेल २०१२ 

10 टिप्‍पणियां:

  1. जो दो कदम भी साथ चले उसका शुक्रिया,
    मुद्दे की बात ये है कि, तनहा है हर सफ़र |

    बहुत खूबसूरत गजल .... आज कल ब्लौग्स पर भ्रमण नहीं के बराबर है आपका

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरती से भावों को संजोया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह..............

    बहुत बढ़िया सौंधी सी गज़ल................

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज हमारे फासलों को देख कर लगता है कि
    वो पलों का जुनून था ,जो हम कुछ देर को बहके थे||

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं उस जगह से आया हूँ कहते हैं जिसे 'गाँव'
    अब तक नही है उसके मुकाबिल कोई शहर |

    खड़िया से किसी स्लेट पर लिक्खा गया था तू,
    'आनंद' ! तुझे कौन याद रक्खे उम्र भर |
    वाह ...बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी मित्रों का हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. "मुद्दे की बात ये है कि, तनहा है हर सफ़र"

    सहजता से व्यक्त होता अकाट्य सत्य! पढने के बाद मन में छप सी जाती है ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं