शनिवार, 5 मार्च 2011

वक्त का हालात का मैं हर तमाचा सह गया







प्यार की जंजीर में जकड़ा खड़ा, मैं रह गया ,
एक ही झोंके में वो प्यारा घरौंदा ढह  गया  !

एक मुद्दत बाद कल साहिल मुझे छूने को था,
एक ऊँची लहर आयी, दूर तक मैं बह गया !

अब न कोई दांव इस मासूम दिल का खेलना,
वक़्त जाते हुए मेरे कान में, यह कह गया !

एक सपना था, कि कोई आंसुओं की बूंद थी ? 
जो भी था वो आँख में ही झिलमिलाता रह गया !

घर हमारा है मगर, दीवारें औरों की हुयीं ,
एक बड़ा प्यारा अजनबी चंद रातें रह गया !

पहले जब हालात इतने तंगदिल कातिल न थे,
'प्यार करता हूँ तुम्हे' मैं भी किसी से कह गया!

टूट जाता कभी का, लेकिन वफ़ा के नाम पर  ,
वक़्त का हालात का, मैं हर तमाचा सह गया  !!

     --आनंद द्विवेदी ०१/०५/२००८ 

8 टिप्‍पणियां:

  1. 'एक मुद्दत बाद कल साहिल मुझे छूने को था

    एक ऊँची लहर आई दूर तक मैं बह गया '



    बहुत सुन्दर शेर द्विवेदी जी ......यही तो जिंदगी की जद्दोजहद है

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया सुरेन्द्र भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. घर हमारा है मगर, दीवारें औरों की हुयीं ,
    एक बड़ा प्यारा अजनबी चंद रातें रह गया
    बहुत सुन्दर शेर...

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिंदगी की जद्दोजहद यही है|
    बहुत सुन्दर| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  5. टूट जाता कभी का, लेकिन वफ़ा के नाम पर ,
    वक़्त का हालात का, मैं हर तमाचा सह गया !!

    very nice.

    उत्तर देंहटाएं
  6. Sunil ji, Patali ji aur Amit ji...ap sab ka hriday se abhar.

    उत्तर देंहटाएं
  7. kya baat hai ji bouth he sunder post hai aapka ...

    कृपया मेरे ब्लॉग पर जाएँ
    डाउनलोड लेटेस्ट संगीत
    Latest Lyrics

    उत्तर देंहटाएं