शनिवार, 4 अक्तूबर 2014

जीव और आत्मा

मुझे अच्छे से नहीं पता कि
सीने के अन्दर ठीक किस जगह होता है कलेजा
कहाँ होते हैं  प्राण
और कहाँ होती है आत्मा
पर मुझे ठीक से पता है
कैसे स्पर्श करती है तुम्हारी आत्मा
मुझे ठीक उसी जगह
जहाँ सबसे ज्यादा सक्रिय होता है जीवन
और जीवन का कारोबार
ध्वनियाँ हो सकती हैं मन का खेल
पर स्पर्श ... उसे तो पहचानता हूँ मैं आदिकाल से
जैसे शरीर पहचानता है ऊष्मा को
भूमि... जल को
भूख ...अन्न को
और प्राण ....तुमको

मत कहना कभी
मैंने तुम्हें देखा नहीं
छुआ नहीं
जाना नहीं
मैंने जिया है तुमको अहिर्निशि
अपने केंद्र में अविछिन्न
जैसे जीव और आत्मा
जिसमें मैं जीव हूँ
और तुम इसकी आत्मा
जीवन इसी संयोग का नाम है ...!

- आनंद 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें