बुधवार, 6 फ़रवरी 2013

कहीं तुम भी ...?


सुबह उगते हुए सूरज को देखना
देखना ओस की कोई अकेली बूँद
खय्याम की रुबाई से रूबरू होना
या फिर गुनगुनाना मीर की ग़ज़ल
आफिस की मेज़ को बना लेना तबला
और पल भर को  जी लेना बचपन
ऐसा ही कुछ कुछ है तुम्हारा अहसास
जिसे ठीक से कह पाना असंभव
कभी सुनो मेरे ठहाकों में खुद को
कभी पढ़ो मेरे आँसुओं में अपनी कविता
कि ढूंढो मेरे अंधेरो में अपनी छाया
और लहलहाओ मेरे मौन में
बनकर सरगोशियों की फ़सल

मुद्दत से तुम्हें कहने की कोशिश में हूँ
मगर एक भी उपमा नहीं भाती मन को
रह जाते हो तुम हमेशा ही अकथ
जैसे अनकही रह गयी मेरी वेदना
जैसे अनलिखी रह गयी मेरी कविता
जैसे अनछुआ रह गया एक फूल
जैसे अनहुआ रह गया मेरा प्रेम
कि जैसे अनजिया बीत गया एक जीवन

सुनो !
कहीं तुम भी
किसी का जीवन तो नहीं ?

- आनंद






7 टिप्‍पणियां:

  1. भावों से नाजुक शब्‍द को बहुत ही सहजता से रचना में रच दिया आपने.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनकही सी भावनाएं जो सब समेटे हैं......

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनकही सी भावनाएं जो सब समेटे हैं......

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर! बहुत कोमल रचना ....
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं